मेरे भारत के कंठहार

तुक्षको शत – शत वंदन बिहार

तू वाल्मीकि की रामायण

तू वैशाली का लोकतंत्र

तू बोधिसत्व की करुणा है

तू महावीर का शांतिमंत्र

तू नालंदा का ज्ञानदीप

तू हीं अक्षत चंदन बिहार

तू है अशोक की धर्मध्वजा

तू गुरुगोविंद की वाणी है

तू आर्यभट्ट तू शेरशाह

तू कुंवर सिंह बलिदानी है

तू बापू की है कर्मभूमि

धरती का नंदन वन बिहार

तेरी गौरव गाथा अपूर्व

तू विश्व शांति का अग्रदूत

लौटेगा खोया स्वाभिमान

अब जाग चुके तेरे सपूत

अब तू माथे का विजय तिलक

तू आँखों का अंजन बिहार

तुक्षको शत – शत वंदन बिहार

मेरे भारत के कंठहार

 

इसे भी पढ़े          मेरी रफ्तार पे सूरज की किरण नाज करे-बिहार राज्य प्रार्थना

ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें

[gem id=1391812]

 

Facebook Comments