आपको पता है बिहार की धरती ने एक महान बंगाली लेखक भी को जन्म दिया है

0
61
Bibhuti bhushan-Mukherjee5

 

परिचय

बिभूति भूषण मुखोपाध्याय  एक बंगाली लेखक थे।

 

जन्म 

बिभूतिभूषण मुखोपाध्याय का जन्म 24 अक्टूबर 18 9 4 को ब्रिटिश भारत के मिथिला क्षेत्र (वर्त्तमान दरभंगा जिला) के एक गांव पांडौल में हुआ था।

 

 

साहित्यिक कार्य

बिभूतिभूषण मुखोपाध्याय की पहली पुस्तक, रणूर प्रथोम वाघ 1 9 34 में प्रकाशित हुई थीं। उनके लेखन कार्य को बिहार, बंगाल और बांग्लादेश के अकादमिक पाठ्यक्रम में शामिल किए गए थे।

उपन्यास

  • नीलंगुरियियो (बाद में इसे फिल्म के स्क्रिप्ट के रूप में भी उपयोग में लाया गया ।
  • स्वर्गदापी गारीयसे
  • तोमरा भारसा
  • उत्तरायण
  • कंचन मुल्या, (बाद में इसे फिल्म के स्क्रिप्ट के रूप में भी उपयोग में लाया गया ।
  • डॉल्गोविंदर कराचा
  • रुप होलो अभिषेक
  • नयन बौ
  • पंक पल्लाब
  • कदम
  • रणू लघु कथाएं
  • रणूर प्रोथॉम वाघ
  • रणूर डिटियो वाघ
  • रणूर ट्रिटियो वाघ
  • रणूर कोठमाला

अन्य छोटी कहानियां

  • हथे खारी
  • रिला रंगा
  • बर्जातरी
  • बसर
  • कोकिल देके छिलो

यात्रा वृत्तांत

  • कुशी पंगानेर चिठी
  • डुएर होट एडूर
  • अजतर जॉयजत्रा
  • नाटक
  • बाराजत्री (बाद में फिल्म और टेलीविजन के रूप में ढाला गया )
  • टांसिल

बच्चो की किताब

  • पोनूर चिठी
  • किलेशर पतरानी
  • हिस जाओ (कविता)

पुरस्कार

उन्हें 1 9 58 में आनंद पुरस्कार पुरस्कार, 1 9 72 में रवींद्र पुरस्कार और 1 9 78 में शारचंद्र पुरस्कार प्रदान किया गया। उन्हें कलकत्ता विश्वविद्यालय से जगत्तिनी पुरस्कार से सम्मानित किया गया, बर्डवान विश्वविद्यालय से डी। लिट डिग्री और विश्व भारती शांतिनिकेतन विश्वविद्यालय से देसी कोट्टामा  का पुरस्कार से सम्मानित किया गया |

इसे भी पढ़े                        मैथिल कवि कोकिल :विद्यापति

मृत्यु

मुखोपाध्याय की मृत्यु 2 9 जुलाई 1 9 87 को दरभंगा में 93 वर्ष की उम्र में हुई, उन्होंने कभी शादी नहीं की।

ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें

[gem id=1391812]

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here