Sunday, June 16, 2024
HomeAchievers from biharवशिष्ठ नारायण सिंह :आइन्सटीन के सिद्धांत को चुनौती देने वाले बिहार के...

वशिष्ठ नारायण सिंह :आइन्सटीन के सिद्धांत को चुनौती देने वाले बिहार के एक महान गणितज्ञ

Published on

परिचय

वशिष्ठ नारायण सिंह एक प्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ है।


जन्म


उनका जन्म बिहार के भोजपुर जिला में बसंतपुर नाम के गाँव में २ अप्रैल १९४२ को हुआ।

शिक्षा


डाक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह ने सन् 1962 बिहार में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की। पटना विज्ञान महाविद्यालय (सायंस कॉलेज) में पढते हुए उनकी मुलाकात अमेरिका से पटना आए प्रोफेसर कैली से हुई। उनकी प्रतिभा से प्रभावित हो कर प्रोफेसर कैली ने उन्हे बरकली आ कर शोध करने का निमंत्रण दिया। 1963 में वे कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय में शोध के लिए गए। 1969 में उन्होने कैलीफोर्निया विश्वविघालय में पी।एच।डी। प्राप्त की। चक्रीय सदिश समष्टि सिद्धांत पर किये गए उनके शोध कार्य ने उन्हे भारत और विश्व में प्रसिद्ध कर दिया।

जीवन
अपनी पढाई खत्म करने के बाद कुछ समय के लिए वे कुछ समय के लिए भारत आए, मगर जल्द ही वे अमेरिका वापस चले गए। इस बार उन्होंने वाशिंगटन में गणित के प्रोफेसर के पद पर काम किया। १९७१ में सिंह भारत वापस लौट गए। उन्होंने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर और भारतीय सांख्यकीय संस्थान, कलकत्ता में काम किया।

विवाह
1973 में उनका विवाह वन्दना रानी के साथ हुआ।

बीमारी

1974 में उन्हे मानसिक दौरे आने लगे। उनका राँची में इलाज हुआ। लम्बे समय तक वे गायब रहे फिर एकाएक वे मिल गये। उन्हें बिहार सरकार ने ईलाज के लिएं वेंगलुरू भेजा था। लेकिन बाद में ईलाज का खर्चा देना सरकार ने बंद कर दिया।

बिहार सरकार ने विश्वविख्यात गणितज्ञ के इलाज के लिए पहल की जिसके उपरांत विधान परिषद की आश्वासन समिति ने 12 फ़रवरी 2009 को पटना में हुई अपनी बैठक में डॉ॰ सिंह को इलाज के लिए दिल्ली भेजने का निर्णय लिया। समिति के फैसले के आलोक में भोजपुर जिला प्रशासन ने उन्हें दिनांक 12 अप्रैल 09 को दिल्ली भेजा।उनके साथ दो डॉक्टर भी भेजे गये हैं। दिल्ली के मेंटल अस्पताल में जांच के बाद डॉक्टरों की परामर्श पर उन्हें आगे के खर्च का बंदोबस्त किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि दिल्ली में परामर्श के बाद यदि जरूरत पड़ी तो उन्हें विदेश भी ले जाया जा सकता है।

वर्तमान

अभी वे अपने गाँव बसंतपुर में उपेक्षित जीवन व्यतीत कर रहे थे।कुछ वर्ष पहले आरा में उनकी आंखों में मोतियाबिन्द का सफल ऑपरेशन हुआ । कई संस्थाओं ने डॉ वशिष्ठ को गोद लेने की पेशकश की है ।


Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

चाणक्य:एक प्रमुख भारतीय राजनीतिज्ञ, विचारक और अर्थशास्त्री

चाणक्य, जिसे भारतीय इतिहास में विशेष महत्व प्राप्त है, एक प्रमुख भारतीय राजनीतिज्ञ, विचारक...

एच सी वर्मा :एक विख्यात भारतीय भौतिकविद और भौतिक टेक्स्टबुकों के लेखक हैं

एच.सी. वर्मा (H.C. Verma) भारत के दरभंगा, बिहार में जन्मे एक विख्यात भौतिकविद और...

गोनू झा: मिथिला के राजा हरि सिंह के समकालीन एक हाजिर जवाब व्यक्ति

गोनू झा 13 वीं शताब्दी में मिथिला के राजा हरि सिंह के समकालीन हाजिर...