magadh university

परिचय

यह विश्वविद्यालय बिहार के मगध जोन का एकमात्र विश्वविद्यालय है ।यह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा मान्यता प्राप्त है। 44 घटक कॉलेजों, 24 पीजी विभाग और 85 संबद्ध कॉलेजों के साथ, मगध विश्वविद्यालय बिहार का सबसे बड़ा विश्वविद्यालय है।

स्थित

यह बोधगया मे स्थित है जो गया ज़िला मुख्यालय से लगभग 12 कीलोमीटर दूर है।

स्थापना

मगध विश्वविद्यालय की स्थापना 1962 मे शिक्षाविद्व व पूर्व मुख्यमंत्री सत्येन्द्र नारायण सिन्हा ने की थी।।अपने स्थापना के शुरुआती दिनों में ही यह विश्वविद्यालय अपनी शैक्षणिक व्यवस्था को लेकर पूरे देश में चर्चित हो गया था। यहॉ उच्च कोटी की शिक्षा प्रदान की ज़ाती है।

इतिहास
मगध विश्वविद्यालय की स्थापना 1 9 62 में एक शिक्षाविद और बिहार के तत्कालीन शिक्षा मंत्री सत्येंद्र नारायण सिन्हा ने की थी। एक प्रसिद्ध इतिहासकार के के दत्ता, संस्थापक उपाध्यक्ष थे। इसने 2 मार्च 1 9 62 से दो घटक कॉलेजों, 32 संबद्ध कॉलेजों और सात स्नातकोत्तर विभागों के साथ काम करना शुरू कर दिया।

 

मगध विश्वविद्यालय का विभाजन

  • 1 992 में, 17 घटक कॉलेजों को नए गठित वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय (भोजपुर) में स्थानांतरित कर दिया गया।
  • 2018 में, मगध विश्वविद्यालय को विभाजित किया गया था, और पटना और नालंदा जिले के कॉलेज जो पहले मगध विश्वविद्यालय के अधीन थे, अब नव निर्मित पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के अधीन आ गए हैं |

संकाय
विश्वविद्यालय में 24 स्नातकोत्तर विभाग, 44 घटक कॉलेज, और 85 संबद्ध कॉलेज मानविकी, सामाजिक विज्ञान, विज्ञान, वाणिज्य, चिकित्सा, इंजीनियरिंग और प्रबंधन में उच्च शिक्षा प्रदान करते हैं।

पाठ्यक्रम
कई पेशेवर / व्यावसायिक पाठ्यक्रम जैसे एमबीए, एमसीए, बीसीए, बीबीएम। पर्यावरण विज्ञान, पर्यटन और यात्रा प्रबंधन, परामर्श और पुनर्वास, पत्रकारिता और जन संचार, आदि घटक / संबद्ध कॉलेजों में चल रहे हैं। दो सरकारी मेडिकल कॉलेज, दो निजी इंजीनियरिंग कॉलेज, एक निजी डेंटल कॉलेज और विश्वविद्यालय के तहत तीन लॉ कॉलेज हैं।

दूरस्थ शिक्षा
मगध विश्वविद्यालय दूरस्थ शिक्षा सुविधाएं भी प्रदान करता है।

सम्बंधित कॉलेज

इस विश्वविद्यालय से पटना तथा गया के लगभग 250 महाविद्यालय सम्बंधित है ।

Facebook Comments