Friday, May 24, 2024
HomeFEATURED ARTICLESमहात्मा गाँधी ने चम्पारण सत्याग्रह आंदोलन का नेतृत्व कैसे किया

महात्मा गाँधी ने चम्पारण सत्याग्रह आंदोलन का नेतृत्व कैसे किया

Published on

महात्मा गाँधी ने चम्पारण सत्याग्रह आंदोलन का नेतृत्व कैसे किया

mahama gandhi and champaran satyagraha movement

महात्मा गाँधी ने देश के लिए बहुत सारे आंदोलनों का नेतृत्व किया ये जगजाहिर है|लेकिन उनके आंदोलनों की शुरुआत जहां से हुई थी वो गौरवमयी स्थान ,बिहार का  चम्पारण (मोतिहारी)  है |उस आंदोलन को लोग असहयोग आंदोलन के नाम से जानते हैं |आइये जाने इस आंदोलन को ,की कैसे गाँधी जी ने इस आंदोलन में कैसे किसानो का साथ दिया और इस आंदोलन से देशवासियो को क्या मिला |

बात उन दिनों की है जब अंग्रेजो ने अपने फायदे के लिए किसानो पर जुल्म करना शुरू किया था

बिहार के उत्तर पश्चिमी गांव चंपारण के किसानों को उनके खाद्य पदार्थों जो उनके जीवन यापन के लिए आवश्यक थे के बजाय यूरोपीय पौधों द्वारा नीलों को बढ़ाना पड़ता था,। नील भूमि की उत्पादकता को नष्ट कर रहा था जो किसान के विरोध का मुख्य कारण था।

गांधीजी ने किसानों के कारणों का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना और चंपारण आंदोलन की शुरुआत की।

विशेषताएं:

1. सच्चाई पर जोर

2. अतीत में किसानों द्वारा हिंसक बगावत के साथ विरोधाभास में एक अहिंसक और शांतिपूर्ण आंदोलन।

3. एक प्रेरक रणनीति के आधार पर।

प्रासंगिकता:

उस समय (1 9 10 के दशक) जब ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों /किसानो के किसी भी लोकप्रिय भावना / असंतोष / विरोध को कुचल दिया जाता था , उसके विपरीत चंपारण आंदोलन में शांति और अनुनय की रणनीति बेहद प्रासंगिक थी क्योंकि इसने अंग्रेजों को आंदोलन को कुचलने के लिए कोई आधार नहीं दिया था ।

महत्व और इस आंदोलन का प्रभाव 

1.यूरोपीय बागानियों ने इस क्षेत्र के गरीब किसानों के लिए खेती पर और अधिक मुआवजा और नियंत्रण देने पर एक समझौते पर हस्ताक्षर किए और अकाल समाप्त होने तक राजस्व वृद्धि और रद्दीकरण रद्द कर दिया।

2. गाँधी जी ने इस सत्याग्रह के बाद भारत की स्वतंत्रता संग्राम में एक शक्तिशाली उपकरण के रूप में सत्याग्रह का उपोग किया।

3. इस सत्याग्रह का मनोवैज्ञानिक प्रभाव लोगो पर कमाल का था था। वो लोग यानि पीड़ित लोग सत्य और अहिंसा में विश्वास करने लगे थे ।

चंपारण सत्याग्रह का प्रतीकात्मक महत्व यह था- – सफलता भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन की अगली सीट पर गांधी को रखने और सत्याग्रह के लिए असैनिक प्रतिरोध का एक शक्तिशाली उपकरण बनाने के लिए जिम्मेदार साबित हुआ।कुल मिलकर कहा जाये तो चम्पारण के इस आंदोलन ने लोगो में जान फूंक दी और गांधीजी ने शांति और अहिंसा को अपना हथिआर बनाकर आगे की लड़ाई लड़ी

अतुल्य बिहार की और से उनके दिवंगत आत्मा को कोटि- कोटि प्रणाम

अगर जानकारी उपयोगी लगी हो तो शेयर अवश्य करें

Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

बिहार दिवस 2024: बिहार की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का जश्न

बिहार दिवस कब मनाया जाता है हर साल 22 मार्च को, भारत का...

पटना में हाई-टेक तारामंडल का निर्माण: बिहार का एक और कदम विकास की ऊँचाइयों की ओर

बिहार के विकास में एक और महत्वपूर्ण कदम बढ़ता जा रहा है, क्योंकि पटना...