Friday, May 24, 2024
HomeNewsArt & Cultureराजेंद्र नगर टर्मिनल और पाटलिपुत्र स्टेशन अब एक नए रंग में नजर...

राजेंद्र नगर टर्मिनल और पाटलिपुत्र स्टेशन अब एक नए रंग में नजर आएगा

Published on

मधुबनी रेलवे स्टेशन पारंपरिक मिथिला कला में बदलने के बाद , भारतीय रेलवे, राज्य के अन्य प्रसिद्ध शिल्पों का प्रदर्शन करके बिहार के और अधिक स्टेशनों को आकर्षक बनाने की तैयारी कर रहा है।
रेलवे ने अब अन्य स्टेशनों पर इस क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने के लिए बिहार उद्योग विभाग के उपेंद्र महारथी का चयन किया है।

किन किन स्टेशनों का सौंदर्यीकरण होगा

  • श्रृंखला में सबसे पहले पटना के राजेंद्र नगर टर्मिनल को बिहार के प्रसिद्द टिकुली आर्ट से सजाने की योजना बनाई गई है, यह माना जाता है कि यह शैली राज्य की राजधानी के पटना में बहुत चर्चित है और पटना सिटी इलाके में इसकी उत्पत्ति हुई है ।
  • इसके बाद पाटलिपुत्र रेलवे स्टेशन का सौन्द्रियकरण करने की योजना है

दानापुर के डिवीजनल रेलवे मैनेजर (डीआरएम) रंजन प्रकाश ठाकुर ने कहा, “यह विचार है कि रेलवे स्टेशनों को परंपरागत शिल्प से सजाने का मकसद बिहार और क्षेत्र के सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देना है |

“हालांकि टिकुली शिल्प पटना शहर में लगभग 800 साल पहले पैदा हुआ है, लेकिन राज्य की राजधानी में कई अभी भी इसकी जानकारी नहीं रखते हैं। यही कारण है कि हमने इस कला का चयन किया है। राजेंद्र नगर टर्मिनल का काम अगले 10 दिनों में शुरू हो सकता है। हमने  बदलाव के बाद रेलवे टर्मिनल को कैसा दिखेगा,इसका एक स्केच पहले ही जारी कर दिया है|

डीआरएम ने कहा, “पाटलिपुत्र रेलवे स्टेशन के लिए थीम का अभी तक निर्णय नहीं हुआ है”। वैसे ज्यादातर उम्मीद है पाटलिपुत्र को भगवान बुद्ध के थीम पर आधारित कोई स्वरुप दिया जायेगा
जबकि मधुबनी में कष्टकारी काम स्थानीय कलाकारों द्वारा मुफ्त में किया गया था, राजेंद्र नगर टर्मिनल और पटलीपुत्र स्टेशन पर काम की लागत बिहार के उद्योग विभाग द्वारा वहन की जाएगी|

अशोक कुमार बिस्वास, जिन्होंने अन्य राज्यों और विदेशों में टिकुली शिल्प को लोकप्रिय किया है, ने कहा कि टिकुली शिल्प इन दिनों हार्डबोर्ड प्लेट्स और फाइबर टुकड़ों की चमकता हुई सतह पर की जा रही हैं।

 “बिस्वास ने कहा”

“शब्द ‘टिकूलि‘ मूलतः महिलाओं द्वारा माथे पर उपयोग की जाने वाली बिंदी के लिए स्थानीय शब्द है, । मूलतः यह कांच के टुकड़ों पर सोना फ़ॉइल के साथ बनाया गया था। महंगा होने के बावजूद, यह अत्यधिक मांग में थी। लेकिन जब ब्रिटिश व्यापारियों ने औद्योगीकरण शुरू किया और हमारे स्वदेशी सामान, सस्ते मशीन बनाने वाली वस्तुओं से बदल दिया गया, तब इसका व्यापार गिर गया । हजारों टिक्की कलाकारों को बेरोजगार छोड़ दिया गया क्योंकि मशीन निर्मित बिंडियां बाजार में आ गयी थीं। हालांकि व्यापारियों ने इसे आकार देने और सजावट के टुकड़े को देखते हुए जीवित रखने की कोशिश की, लेकिन चीजें काम नहीं की आर्टिस्टों ने इस काम को लगभग छोड़ दिया

“यह उपेंद्र महारथी थे , जिनके अथक प्रयास से यह शिल्प बिहार में जिन्दा रह पाया|हुआ यूँ की उन्होंने 1 9 60 के दशक में अपनी जापान की यात्रा के दौरान लकड़ी के टुकड़ों पर तामचीनी रंग के साथ कई डिजाइन किए थे। उनकी वापसी पर, महारथी ने कारीगरों को लकड़ी के टुकड़ों पर टिकुली कला बनाने के लिए प्रोत्साहित किया,

[the_ad_placement id=”adsense-in-feed”]

पढ़िए सत्तू शरबत के पौष्टिक गुण के बारे में 

तो तैयार रहिये , बिहार के स्टेशनों को बिहारी शिल्प के रंग में सराबोर होते देखने के लिए|

Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

पटना मेट्रो: सातवें आसमान में उड़ान का इंतजार

पटना मेट्रो का निर्माण: एक सुरक्षित और तेज़ यातायात की ओर राजधानी पटना में मेट्रो...

बिहार के राजगीर में आयोजित होने वाले मलमास मेले का शुभारंभ हुआ

बिहार के राजगीर में आयोजित होने वाले मलमास मेले का उद्घाटन मंगलवार को किया...

बिहार की बेटी रीत मयूर सिंह ने मिस इको टीन इंडिया 2023 का खिताब जीता

बिहार की बेटी रीत मयूर सिंह ने मिस इको टीन इंडिया 2023 का खिताब...