Ajatshatru-Fort

राजगीर के प्रमुख पर्यटक आकर्षण  में अजितशत्रू किला भी एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है । आज अजितशत्रू किला जिसका अस्तित्व खंडहर में प्ररिवर्तित है है और शायद ही कभी पहली नज़र में एक किला लगता है। लेकिन कभी ये ये एक भव्य किला हुआ करता था

राजगीर में स्थित अजातशत्रू किला 600 शताब्दी ईसा पूर्व में 2500 साल पहले मगध साम्राज्य पर अपने शासन के दौरान राजा अजातशत्रु द्वारा बनाया गया था। वह भगवान बुद्ध के समकालीन थे। यह चार कोनों के साथ एक आयताकार आकार में बनाया गया था और प्रत्येक कोने पत्थर टावर और दीवारों से ढका हुआ है, लगभग 60 मीटर लंबा और 2 मीटर चौड़ा वर्ग है। अजातशत्रू किले को भारत में सबसे प्राचीन किलों में से एक माना जाता है

लोकप्रिय किंवदंती के मुताबिक, अजितशत्रू ने सिंहासन मिलने के बाद इस किले के अंदर बने एक जेल में अपने पिता को कैद कर दिया था। बिंबिसार बुद्ध के महान प्रशंसक थे और उन्होंने कारावास के लिए जगह चुना ताकि वह ग्रिधाकुता शिखर पर भगवान बुद्ध को हर सुबह उपदेश देते हुए देख सके ।

Facebook Comments