Saturday, April 13, 2024
HomeNewsबिहार के मधेपुरा ने प्रधान मंत्री मोदी की 'मेक इन इंडिया' पहल...

बिहार के मधेपुरा ने प्रधान मंत्री मोदी की ‘मेक इन इंडिया’ पहल को एक वास्तविकता बना दिया है |

Published on

बिहार के मधेपुरा ने प्रधान मंत्री मोदी की ‘मेक इन इंडिया’ पहल को एक वास्तविकता बना दिया है मधेपुरा में एक संयंत्र ने 12000 अश्वशक्ति के साथ भारत का पहला लोकोमोटिव इंजन असेम्बलन किया गया |यह एक भारतीय रेलवे और फ्रांसीसी विशाल कंपनी अल्स्टॉम का संयुक्त उपक्रम है और यह एक रेल सेक्टर में पहली और सबसे बड़ी विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) परियोजना है |

LOCOMOTIVE FACTORY MADHEPURA 4

भारतीय रेल और अलस्टॉम का यह दावा है की यह 12,000 एचपी (अश्वशक्ति) लोकोमोटिव 150 किमी प्रति मील तक गाड़ियों की गति को रोक देगा। ये नए लोकोमोटिव चरम जलवायु परिस्थितियों में काम करने में सक्षम हैं | इस परियोजना में 11 वर्ष की अवधि में 1676 मिमी गेज 9000 किलोवाट (12,000 एचपी) आईजीबीटी आधारित 3 पीएचडीपी डबल बो-बो इलेक्ट्रिक इंजनों की विनिर्माण, परीक्षण और आपूर्ति किया जायेगा

LOCOMOTIVE FACTORY MADHEPURA 3

“यह देश में निर्मित पहला बिजली लोकोमोटिव,है जो 28 फरवरी को देश को समर्पित किया गया । इसके बाद, 2018-19 के वित्तीय वर्ष में कारखाने से चार और उच्च विद्युत विद्युत लोकोमोटिव बन कर बाहर निकल आएंगे,” पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य प्रवक्ता ईसीआर) राजेश कुमार ने बताया।

LOCOMOTIVE FACTORY MADHEPURA

लोकोमोटिव फैक्ट्री, मधेपुरा में 250 एकड़ भूमि पर फैला है, जो राज्य की राजधानी पटना से 284 किमी उत्तर-पूर्व की दूरी पर स्थित है |

LOCOMOTIVE FACTORY MADHEPURA 4

35 से अधिक इंजीनियरों की एक टीम ने कारखाने में बिजली के इंजन को असेम्बल करने के लिए दिन रात काम किया , जिसकी अनुमानित लागत 20,000 करोड़ रुपये से अधिक है। लगभग सभी रेलवे मार्गों के विद्युतीकरण के बाद लोकोमोटिवों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए अगले 11 वर्षों में भारतीय रेलवे 800 इलेक्ट्रिक ट्रेन इंजन का निर्माण कर रही है।

LOCOMOTIVE FACTORY MADHEPURA 4

पांच इंजनों को 201 9 तक कारखाने में असेम्बल किया जाएगा और शेष 795 ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत निर्मित किए जाएंगे |कुमार ने कहा कारखाने 201 9-20 के वित्तीय वर्ष से प्रति वर्ष 100 इलेक्ट्रिक इंजन का निर्माण करेगा, उन्होंने कहा।
2007 में तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद ने कारखाने के लिए नींव का पत्थर रखा था। नवंबर 2015 में रेलवे ने अल्टस्टॉम को इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव प्रोजेक्ट में शामिल किया तब कारखाने में काम की गति बढ़ गई और नतीजा ये रहा की इतनी काम समय में भारत को अपनी पहली लोकोमोटिव ट्रैन मिल गयी |

Facebook Comments

Latest articles

ओढ़नी डैम: बाँका जिले का प्रसिद्ध पिकनिक स्थल

बिहार के बाँका जिले में स्थित ओढ़नी डैम, प्राकृतिक सौंदर्य और जल क्रीड़ा के...

बिहार :समृद्ध विरासत, ज्ञान और धार्मिक उद्गम की भूमि

बिहार की विरासत , नवाचार और लचीलेपन के धागों से बुनी गई एक टेपेस्ट्री...

बिहार दिवस 2024: बिहार की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का जश्न

बिहार दिवस कब मनाया जाता है हर साल 22 मार्च को, भारत का...

More like this

पटना मेट्रो: सातवें आसमान में उड़ान का इंतजार

पटना मेट्रो का निर्माण: एक सुरक्षित और तेज़ यातायात की ओर राजधानी पटना में मेट्रो...

पटना विश्वविद्यालय का नाम दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊँची चोटी पर पहुँचाया मिताली प्रसाद ने

हौसला इंसान से उनके सपने पूरे कराने का माद्दा रखता है।कुछ ऐसा ही कारनामा...

बिहार की अंजलि ने किया कमाल, बनी विदेश में तैनात होने वाली पहली महिला विंग कमांडर

लड़कियां हमेशा देश का मान बढाती है, एक बार फिर बिहार ...