अभिषेक रंजन :चम्पारण का ये लाल लहरा चुका है देश विदेश में सफलता का परचम

0
1043
अभिषेक रंजन :चम्पारण का ये लाल लहरा चुका है देश विदेश में सफलता का परचम

जब इरादे बन जाये जुनून और जिंदगी मे रँग ही रँग बिखेर दे लगन…
लाख रुकावटें हो भले फिर भी नापने को चले गगन…
चंचल सा मन … समाजिक कार्यो मे आगे … मधुर वाणी … कर्मठ … कामयाबिया करती है जिन्हे सलाम वो है – अभिषेक रंजन …

कौन हैं अभिषेक रंजन और क्या है उनकी  उपलब्धियां

●फिंनलैंड ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में चम्पारण का नाम कर चुके है रौशन
●अवार्ड्स, वर्कशाप और मेरिट सर्टिफिकेट मिला के कुल 50 से भी ज्यादा बार हो चुके है सम्मानित
जन्म
24 वर्षीय अभिषेक रंजन  का जन्म मोतीहारी की श्री कृष्ण नगर में हुआ था।

परिवार
वो अपने माँ बाप के एकलौते पुत्र है। उनकी एक बहन भी है।
शिक्षा
अभिषेक जी को प्राथमिक शिक्षा मोतीहारी के ही मॉडर्न पब्लिक स्कूल से मिली। जिसके बाद उन्होंने पटना से 12वी की। 2012 में उन्होंने कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस और टेक्नोलॉजी को जॉइन किया। जहा उनका डिपार्टमेंट इंटरनेशनल स्कूल ऑफ फोटोनिक्स था। अभिषेक ने उस यूनिवर्सिटी से मास्टर्स ऑफ फोटोनिक्स किया।

विदेश में इंटर्नशिप
जब वो कोचीन यूनिवर्सिटी में थे तो तीसरे साल उन्हें एक #Foreign_Internship करना था। जिसमे उन्हें काफी परेशानिया हुई। बहुत सारे यूनिवर्सिटी से उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया वो बहुत निराश हो गए। अंत मे उन्हें एक यूनिवर्सिटी आल्टो यूनिवर्सिटी फिंनलैंड में चुना गया।

 

स्कॉलर शिप

इन्होंने IAPT, NEST इत्यादि मे स्कॉलर शिप भी जीता है…

Did you know” के विनर
अमेरिकन OSA नामक ऑर्गनाइजेशन के क्विज “Did you know” के विनर है

रिसर्च वर्क
अभिषेक ने 2015,से २०१७ तक फ़िनलैंड में इंफ्रारेड इमेजिंग, नॉनलीनिअर ऑप्टिक्स , क्वांटम कंप्यूटिंग आदि विषय पर रिसर्च
भी किया है…
संस्था से भी जुड़े है अभिषेक
कीप इंडिया बूटीफुल “जैसी Environment के लिए काम करने वाली संस्था से जुड़े
क्या है उनका पैशन
गीत गाना समाजिक कार्य करना, दूसरो की मदद करना, पर्यावरण संरक्षण करना उनके हॉबी में शुमार है
उनके गाये गीत youtube पर उपलब्ध है
अभिषेक जी के गीत जहाँ youtube पर उपलब्ध है

समाज सेवा मे अतुलनीय योगदान के कारण वो युवाओं के युथ आइकॉन बने हुए हैं…
Brisbane मे काम कर चुके अभिषेक जी मोतिहारी मे KBC WINNER मंटू कुमार सुशील की मुहिम “चम्पा से चम्पारण” के तहत हज़ारों की संख्या में अब तक पौधे लगा चूके हैं…

वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रैंकलिन को मानते हैं आदर्श

अभिषेक जी कहते है कि मेरा मनपसंद वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रैंकलिन है, मैंने उनकी किताब ” द ऑटोबायोग्राफी ऑफ बेंजामिन फ्रेंक्लिन” पढ़ी मैं उससे बहुत ही ज्यादा इंस्पायर हुआ हूं भविष्य में मैं भी कुछ उनके तरह बनना चाहता हूँ।

PHD रिसर्चर के रूप में सेलेक्ट किये गए
हाल ही में उन्हें #फिंनलैंड के #Tampere_यूनिवर्सिटी और #नॉर्वे के #अर्क्टिक_यूनिवर्सिटी में PHD रिसर्चर के रूप में सेलेक्ट किया गया है।

वर्त्तमान कार्य

अभिषेक जी US की www.findlight.net के लिए 22 february 2016 से ऑनलाइन काम करते हैं और TRUSTIN अमेरिकन कंपनी के लिये लाइव रिसर्च भी करते है…

Facebook Comments