Friday, May 24, 2024
Homefacts of biharपौराणिक काल में पाटलिपुत्र की अहमियत

पौराणिक काल में पाटलिपुत्र की अहमियत

Published on

पाटलिपुत्र, जिसे आजकल पटना के नाम से जाना जाता है, भारत के राज्य बिहार की राजधानी है। पाटलिपुत्र की कहानी महानानंदा सरकार और उनके पुत्र महापद्मनंदा सरकार के समय में शुरू होती है।

पाटलिपुत्र का निर्माण महानानंदा सरकार द्वारा किया गया था। यह सत्ताधारी सिकंदर के मात्र 11 साल बाद बनाया गया था। महापद्मनंदा सरकार ने अपने पिता की इच्छा के अनुसार नगर का नाम पाटलिपुत्र रखा।

पाटलिपुत्र को भारतीय इतिहास में विशेष महत्व हासिल है। यह मौर्य साम्राज्य की नींव रखने वाला नगर था। इसका महत्व व्यापार और आर्थिक क्षेत्रों में था। पाटलिपुत्र एक महत्वपूर्ण वाणिज्यिक और व्यापारिक केंद्र था, जहां विदेशी व्यापारियों के साथ व्यापार किया जाता था।

इसके साथ ही पाटलिपुत्र विदेशी दूतों की एक मुख्य आपूर्ति भी था। यहां बाजारों में विभिन्न वस्त्र, मसाले, मूल्यवान रत्न और अन्य महंगे वस्त्र और आभूषण मिलते थे। पाटलिपुत्र में एक विशेष स्थान था जहां माल व्यापारियों की मीटिंग होती थी और अन्य व्यापारियों के साथ निर्देश दिए जाते थे।

पाटलिपुत्र की सड़कें और घर अत्यंत व्यवस्थित थीं और नगर के अंदर भव्य निर्माण कार्य भी हुए थे। मनमोहक बाग और उद्यानों ने नगर को आकर्षक और आनंददायक बनाया। पाटलिपुत्र की विदेशी यात्री भी इसकी प्रशंसा करती थीं और इसे एक भौगोलिक और सांस्कृतिक नगर के रूप में मान्यता देती थीं।

इस प्रकार, पाटलिपुत्र की कहानी एक भारतीय ऐतिहासिक नगर की ऊंचाईयों को दर्शाती है। इसका महत्व, व्यापारिक और सांस्कृतिक उद्यम के क्षेत्र में, भारतीय इतिहास की भूमिका में और मौर्य साम्राज्य के विस्तार में मान्यता दिखाता है। पाटलिपुत्र भारतीय सभ्यता की महत्वपूर्ण गरिमा का प्रतीक रहा है।

पाटलिपुत्र, जिसे आजकल पटना के नाम से जाना जाता है, वह नगर है जहां मौर्य साम्राज्य की राजधानी स्थापित की गई थी। पाटलिपुत्र वाणिज्यिक, आर्थिक और सांस्कृतिक केंद्र था, जिसमें विदेशी व्यापारियों के साथ व्यापार होता था। इस नगर में महान सुंदर निर्माण कार्य और आकर्षक उद्यान भी थे। पाटलिपुत्र का निर्माण मौर्य साम्राज्य के महानानंद और महापद्मनंद के शासनकाल में किया गया था।

चाणक्य, जिसे भारतीय इतिहास में विशेष महत्व हासिल है, मौर्य साम्राज्य के समय के प्रमुख राजनीतिज्ञ, विचारक और आचार्य थे। चाणक्य, जिसे कौटिल्य या विष्णुगुप्त भी कहा जाता है, ने अपने राजनीतिक और युद्ध नीति विद्याओं के लिए प्रसिद्धता प्राप्त की। उन्होंने मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चंद्रगुप्त मौर्य की सहायता की और उन्हें राज्य की सभीरक्षा, विश्वासनीयता और समृद्धि में मदद की। चाणक्य ने अपनी ग्रंथ “अर्थशास्त्र” और “कौटिल्य अर्थशास्त्र” में अपने विचारों को प्रस्तुत किया।

चाणक्य की नीतियों, युद्ध नीति और शास्त्रीय विचारों की बदौलत ही पाटलिपुत्र मौर्य साम्राज्य का महानगर बन सका। चाणक्य के प्रयासों के बावजूद, मौर्य साम्राज्य के निर्माण के बाद चंद्रगुप्त मौर्य ने चाणक्य को अपने अभिशाप से छुड़ा दिया था, और यही कारण है कि पाटलिपुत्र के निर्माण में चाणक्य की महत्वपूर्ण भूमिका है।

चाणक्य के विचार, नीतियों, और नगर पाटलिपुत्र के रूप में उनके प्रशंसकों द्वारा बनाए गए योजनाओं ने मौर्य साम्राज्य को एक महान शक्ति बनाया।

Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

यूनानी राजदूत मेगस्थनीज़ पाटलिपुत्र देखकर दंग क्यों रह गया?

मेगस्थनीज़ (Megasthenes) एक प्रमुख यूनानी राजदूत और यात्री थे, जिन्होंने भारत में मौर्य साम्राज्य...

बिहार में किस प्रकार की जलवायु है?

बिहार समुद्र से अपनी दूरी के कारण एक महाद्वीपीय मानसून जलवायु का...

बिहार का नाम बिहार कब और कैसे पड़ा

हम जानते हैं बिहार भारत के विभिन्न प्रदेशों में से एक प्रदेश है...