Saturday, April 13, 2024
HomeFEATURED ARTICLESभागलपुरी सिल्क:बिहार के से उपजी रेशम साड़ियों और अन्य कपड़ों...

भागलपुरी सिल्क:बिहार के से उपजी रेशम साड़ियों और अन्य कपड़ों की एक अद्भुत शैली

Published on

भागलपुरी सिल्क या तुषार सिल्क बिहार के भागलपुर,से उपजी रेशम साड़ियों और अन्य कपड़ों की एक अद्भुत शैली है। इस सिल्क का उपयोग मुख्यतः साड़ी बनाने के रूप में किया जाता है इसलिए इसे भागलपुरी साडी कहा जाता है । इतना ही नहीं साड़ी के साथ साथ विभिन्न प्रकार के विस्तार जैसे कुर्ता, लड़कियों के सूट भी भागलपुरी सिल्क से बनाया गया है।

भागलपुर को भारत के सिल्क सिटी के रूप में भी जाना जाता है । भागलपुर में टसर सिल्क उगाने के लिए कई शहतूत के बाग हैं। नाथनगर एक ऐसी जगह है जहाँ भागलपुरी रेशम मुख्य रूप से उपजाया जाता है।


भागलपुरी सिल्क का इतिहास

भागलपुर में एक सदी से अधिक भी अधिक पहले से भागलपुरी सिल्क का कारोबार चल रहा है । भागलपुरी सिल्क साड़ियों को बनाने का इतिहास उच्च कुशल कारीगरों द्वारा 200 साल शुरू किया गया था इस रेशम बुनाई उद्योग में लगभग 25,000 हथकरघे पर काम करने वाले लगभग 30,000 हथकरघा बुनकर हैं।


वार्षिक व्यापार

इस उद्योग का वार्षिक व्यापार का कुल मूल्य लगभग रु।100 करोड़, जिनमें से लगभग आधा निर्यात से आता है


अनूठी रंगाई तकनीक

इन भागलपुरी सिल्क साड़ियों की अनूठी रंगाई तकनीक उन्हें कला सिल्क की साड़ियों से अलग करती है। आजकल, सब्जी रंजक के बजाय, एसिड रंजक का उपयोग किया जाता है क्योंकि यह रेशम के लिए उपयुक्त है और बाजार पर आसानी से उपलब्ध है।


यहाँ खरीदें

click here

Facebook Comments

Latest articles

ओढ़नी डैम: बाँका जिले का प्रसिद्ध पिकनिक स्थल

बिहार के बाँका जिले में स्थित ओढ़नी डैम, प्राकृतिक सौंदर्य और जल क्रीड़ा के...

बिहार :समृद्ध विरासत, ज्ञान और धार्मिक उद्गम की भूमि

बिहार की विरासत , नवाचार और लचीलेपन के धागों से बुनी गई एक टेपेस्ट्री...

बिहार दिवस 2024: बिहार की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का जश्न

बिहार दिवस कब मनाया जाता है हर साल 22 मार्च को, भारत का...

More like this

बिहार दिवस 2024: बिहार की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का जश्न

बिहार दिवस कब मनाया जाता है हर साल 22 मार्च को, भारत का...

पटना में हाई-टेक तारामंडल का निर्माण: बिहार का एक और कदम विकास की ऊँचाइयों की ओर

बिहार के विकास में एक और महत्वपूर्ण कदम बढ़ता जा रहा है, क्योंकि पटना...