Home facts of bihar क्या आप को पता है बिहार के सारण जिले का नाम सारण क्यों पड़ा

क्या आप को पता है बिहार के सारण जिले का नाम सारण क्यों पड़ा

0
क्या आप को पता है बिहार के सारण जिले का नाम सारण क्यों पड़ा

दुनिया में हर चीज के नाम के पीछे एक कहानी छुपी हुई होती है । आज बिहार के सारण जिले का ये नाम क्यों पड़ा इसके पीछे छुपी दो कहानियों के बारे में जानेंगे |

बिहार का सारण जिला दिलचस्प जगहों और अद्भुत लोकगीत और लोककथाओं से भरा पड़ा है

सारण जिला बिहार के अड़तीस जिलों में से एक है। इसे छपरा जिले क मुख्यालय के बाद छपरा जिला भी कहा जाता है। सारण जिले में तीन उप-डिवीजन शामिल हैं: छपरा, मारहौरा और सोनपुर।

अब आते है मुख्य मुद्दे पर

सारण की उत्पत्ति  उसके नामकरण के पीछे दो अलग-अलग विचार हैं।

1.  ‘आईने अकबरी ‘ में उपलब्ध जानकारी के अनुसार सारण बिहार प्रान्त के छह सरकार राजस्व प्रभाग में से एक था । 1765 में ईस्ट इंडिया कंपनी को दिवाणी देने के समय, सरन और चंपारण सहित आठ सरकार थे।ब्रिटिश सेना के अधिकारी और पुरातत्वविद् अलेक्जेंडर कनिंघम (1814-18 9 4) ने इस तथ्य को बताया की अंग्रेजी वर्ड एसाइलम को हिंदी में “शरण” कहा जाता है । ।इसी कारण इसका नाम सारण पड़ा

2.दूसरे सन्दर्भ में यह कहा गया है की सारण शब्द सरंगा-अरान्या से निकला है, जिसका अर्थ है “हिरण जंगल”। हांलांकि दूसरा सन्दर्भ अधिक लोकप्रिय माना जाता है ।

बिहार से जुडी अन्य तथ्य की जानकारी के लिए पढ़ते रहिये अतुल्य बिहार

 

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here