परिचय

सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर पटना के गांधी मैदान में स्थित एक कन्वेंशन और सम्मेलन केंद्र है।

निर्माण
8 फरवरी 2014 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र की नींव रखी थी।

क्षमता
मुख्य सभागार की क्षमता लगभग 5000 है।

बजट
इस सेंटर को 4 9 0 करोड़ के अनुमानित बजट के साथ बनाया गया है

निर्माण
इस कन्वेंशन सेण्टर में 16,500 मीट्रिक टन लोहा उपयोग का किया गया है है, जो कि एफिल टॉवर में इस्तेमाल होने वाली स्टील की मात्रा और, नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा से भी अधिक है ।

संरचना

सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर में तीन प्रमुख हस्ताक्षर भवन हैं
1) बापू सभागार -5000 बैठने की क्षमता का एक सभागार
2) ज्ञान भवन -८०० लोग की बैठने की क्षमता वाले इस भवन में ऑडिटोरियम (व्याख्यान थियेटर प्रकार), बहुउद्देशीय हॉल और विभिन्न क्षमताओं का अन्य सम्मेलन कक्षों भी है ।
3) सभ्यता द्वार (सभ्यता गेट),दिल्ली के इंडिया गेट और मुंबई के गेटवे ऑफ़ इंडिया की भांति एक एलिवेटेड गेट है जो सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर के पिछले हिस्से में गंगा नदी के तट पर है । यह अप्रैल 2017 में बनकर तैयार हो गया है और इसके कैंपस में कई ज्ञान भवन, बहुउद्देशीय हॉल, पूर्ण हॉल,है । बेसमेंट पार्किंग के साथ मॉड्यूलर मीटिंग रूम, और खाद्य प्लाजा के साथ सभ्यता द्वार एक सदबहार पार्क है।

अवॉर्ड
फरवरी 2018 में, सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र, पटना ने भारत में सर्वश्रेष्ठ निर्माण परियोजनाओं के लिए 10 वीं सीआईडीसी विश्वकर्मा अचीवमेंट अवॉर्ड जीता।

Facebook Comments