Wednesday, July 17, 2024
HomeLITERATURE & POEMSMAGAHI POEMनिरमोहिया छिटका मार के चल गेलो -लता प्रासर रचित मगही ललित निबंध

निरमोहिया छिटका मार के चल गेलो -लता प्रासर रचित मगही ललित निबंध

Published on

देख देख के रहिया ,पथरा गेलो अखिया आउ भादों निरमोहिया छिटका मार के चल गेलो।
आसरा लगले रह गेलो कि झमर झमर पनिया बहतो हल। टाल टुकुर पियासले रह गेलय।
बुढ़ पुरनिया कह हखीं।

“भरल भादों टाल डुबावे।

दलिहन तेलहन घर भराबे।।”

अब तो जे हो गेलो से हो गेलो।आसिनो कय दिन बीत गेलो। हथिया नक्षत्र में भी पानी नय पड़लो।कयसे जुआन किसान सब मट्टी से कमैथिन। दिन रात तप कर के किसान फसल उपजाबे ल बेताब रह हखीं। गामे गाम विरान लग हय आदमी बिना। गांव जाके देखहो कयसन धात धात कर हय गल्ली कुच्ची।
जखनी हमनहीं सब छोटे गो हलिय। इहे गलियन में धमकुचड़ी मचल रह हलय। आसिन में बैल के मान बढ़ल रह हलय। किसान सभे बूंट, खेसारी, मसुरी, केराव(मटर), सरसों, तीसी, सूरजमुखी लेके टाल के खेत में लगाव हलखीं। टाल के खेत सब नौ महीना के विरानी के बाद आबाद होवे लग हय आसिन में। धरती माय के कोख में अंकुरे लग हय जिनगी। रात के सीतल बियार आउ दिन में घामा सबकोय के बेचैन करले रह हय।
पहिले पीतरपछ फिनु दसयं ।अमसिया के राते में दादी, माय, फुआ, चाची सभे करिया कपड़ा में कच्चा-पक्का बालू, बैर कें कांटा,बबूल के कांटा, हींग जमायन आउ पता नम केतना चीज मिलाके जंतर (माने छोटे गो पोटली) बना के घर में सबकोय के पेहना देल हलखिन। बिस्वास हलय कि इ जंतर पेन्हावे से सब अलाय बलाय से दूर रहथिन।
जयसे जयसे हमनी सब आधुनिक होल जा हीय। ई सब पर बिस्वास नय होवहय।अब तो बुतरूअन के कजरो नय लगाव हखीं सब। हां ई बात दीगर है कि अब मेकअप जरूर पोतल जा हय। पहिले सबकुछ घरे में बनावल जा हलय,अब सब बजारे पर ओठगल रह हखीं।  दु दिन बाद दसयं हेल जयतो सब अप्पन अप्पन खियाल रखिहा।
 लिखताहर लता प्रासर
Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

भिखारी ठाकुर की भोजपुरी रचना – शिव-विवाह

  वार्तिका द्वापर युग में श्री कृष्णचन्द्रजी के गोपाल गारी के किताब छप गइल बा। कलियुग में...

निमंत्रण पत्र (मगही व्यंग्य कविता )

    Magahi poem देख निमन्त्रण कार्ड देह से, टपके लगे पसीना नेवता पुरते-पुरते हमरा, मोस्किल हो गेल...