Wednesday, July 17, 2024
HomeLITERATURE & POEMSbhojpuri poem and folk songभुइँया सरग बनि जाई :अविनाश चन्द्र विद्यार्थी द्वारा रचित एक भोजपुरी रचना

भुइँया सरग बनि जाई :अविनाश चन्द्र विद्यार्थी द्वारा रचित एक भोजपुरी रचना

Published on

भुइँया सरग बनि जाई

आई, उहो दिन आई, अन्हरिया राति पराई
लीही अकासे छाई, किरिनि धरती पर धाई
कठमुरकी कन-कन के छूटी
सकदम साँस-साँस के टूटी
लीही पवन अँगडाई, गमक वन-वन छितराई
चह-चह बोल चुचूहिया बोली
जबदल कंठ मुरुगवा खोली
भँवरा पराती गाई, कली के मन मुसुकाई
डगर-डगर तब होई दल-फल
निसबद रही पाई ना जल-थल
जगरम घर-घर समाई, नगर में सोर सुनाई
भायी मोर, नयन ना निहँसी
धूमिल मुँह अँजोर में बिहँसी
भूँइया सरग बनि जाई, सुदिन तब साँच कहाई

रचना : अविनाश चन्द्र विद्यार्थी

Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this