Wednesday, July 17, 2024
HomeLITERATURE & POEMSbhojpuri poem and folk songनाव खुले माँझी रे : अनिरूद्ध द्वारा रचित एक भोजपुरी रचना

नाव खुले माँझी रे : अनिरूद्ध द्वारा रचित एक भोजपुरी रचना

Published on

  नाव खुले माँझी रे

पंछी चहके डेरात, कुनमुनात र्छवरा बा,
फुलवा महके डेरात, गुनगुनात भँवरा बा,
कुलबुलात भोर लुका, कुहरा के पहरा बा,
कुहा खुल माँझी रे, नाव खुल होसियार,
धार, लहर, जल, अकास, रँगवा चीन्हऽ बयार,
हइया रे हइया रे, भइया रे, थम्हले पतवार॥
चहचहा उड़े फर-फर, चिड़ई-मड़ई जागे,
गाय-भँइस खोल चले चरवाहा धुन रागे,
झटक चले बैला सँग, कान्हे हरवा-कुदार॥
चटक-मटक खिले कली, गमकल मग-गाँव-गली,
मतलब बहुते इयार, रसलोभी छली अली,
का सबेर दिलकली, खिले न जिया डर-अन्हार॥
प्यार धरम करम करे, हित जिनगी मेहनत बा,
बइठल मदवा स्वारथ, जियले में मउवत बा,
गैर कहाँ, के आपन, कुछ हमार ना तोहार॥
हाथ-हाथ जगरनाथ, हर देहिया खुदा एक,
एक रंग लहू हर तन, हर मजहब सदा एक,
हम सभ इनसान एक, भारत मइया हमार॥
पानी-दूधवा लजाय, भाई के खून पीअत,
धरम इहे मरदानी, अदमी ना अदमीअत,
बैरी के चाल मिलऽ, सुनलऽ भइया गोहार॥
साहस, बिसवास लगन, मिले कूल ठउआ ऊ,
जग सफर मुसाफिर हम, एक बा परउआ ऊ,
लगे जोर पहुँचा, पहुँचे नइया लगे पार॥
हइया रे हइया रे, भइया रे, थम्हले पतवार॥

रचना :अनिरूद्ध

Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

भुइँया सरग बनि जाई :अविनाश चन्द्र विद्यार्थी द्वारा रचित एक भोजपुरी रचना

भुइँया सरग बनि जाई आई, उहो दिन आई, अन्हरिया राति पराईलीही अकासे छाई,...

देस हमार : अनिरूद्ध द्वारा रचित एक भोजपुरी रचना

देस हमार पहिल जोति फूटे पूरुब से, भइल जगत उजियारबजे भैरवी किरन बेनु...