Wednesday, July 17, 2024
HomeNewsब्रज से ज्‍यादा हुड़दंगी है बिहार की पटका-पटकी वाली 'घुमौर होली',

ब्रज से ज्‍यादा हुड़दंगी है बिहार की पटका-पटकी वाली ‘घुमौर होली’,

Published on

भारत में मनाई जाने वाली होली की अगर बात करें तो ब्रज की ‘लट्ठमार होली’ बहुत ही चर्चित रहती है |आज हम आपको अपने बिहार की एक ऐसी जगह की होली के बारे में बताने जा रहे हैं …..जो ब्रज की तरह ही बड़े भव्य तरीके से मनाई जाती है |
हम बात कर रहे हैं बिहार के सहरसा जिले के बनगांव में मनाई जाने वाली ‘घुमौर होली’ की| सहरसा शहर से मात्रा ८ किलोमीटर की दुरी पर स्थित यह गाँव अपनी एक विशेष तरह की होली के लिए मशहूर है | इसमें लोग एक-दूसरे के कंधे पर सवार होकर, उठा-पटक करके होली मनाते हैं। खास बात यह भी है कि यह होली एक दिन पहले मनायी जाती है। इस साल यह 1 मार्च को मनाई गयी है|
मान्‍यता है कि इसकी परंपरा भगवान श्रीकृष्‍ण के काल से ही चली आ रही है। वर्तमान में खेले जाने वाले होली का स्वरूप 18वीं सदी में यहां के प्रसिद्ध संत लक्ष्मीनाथ गोसाईं ने तय किया था।

holi in bangaon ,saharsa 1
holi in bangaon ,saharsa 1


अद्भुत होता है होली का दृश्य

गांव के निवासी कहते हैं कि इस होली का दृष्‍य अद्भुत होता है। युवा दो भागों में बंट जाते हैं। वे खुले बदन गांव में घूमते हैं और हुड़दंगी होली खेलते हैं |होली के दिन गांव के निर्धारित पांचों स्‍थलों (बंगलों) पर होली खेलने के बाद जैर (रैला) की शक्ल में भगवती स्थान पहुंचते हैं। वे वहां गांव की सबसे ऊंची मानव श्रृंखला बनाते हैं। इस दौरान संत लक्ष्मीपति रचित भजनों को गाते रहते हैं।

holi in bangaon ,saharsa 2
holi in bangaon ,saharsa 2

भगवती स्‍थान के पास इमारतों पर रंग-बिरंगे पानी के फव्वारे लगाए जाते हैं। इनके नीचे लोग एक-दूसरे के कंधों पर चढ़कर मानव श्रृंखला बनाते हैं। इस बीच जगह-जगह गांव के घरों के झरोखों से मां-बहनें रंग उड़ेलती हैं।
बनगांव की होली का असली हुड़दंग दोपहर तक टाेलियों के माता भगवती के मंदिर पर जमा होने के बाद ही होता हैं। खासतौर से पुरुष ही हुड़दंगी होली खेलते हैं और महिलाएं दूर से देखती हैं। मानव श्रृंखला बनाकर होली खेलने तथा शक्ति प्रदर्शन के बाद बाबा जी कुटी में होली समाप्त हो जाती है।

इस होली की तैयारियां एक सप्‍ताह पहले से आरंभ हो जातीं हैं

बनगांव में होली की तैयारियां एक सप्ताह पहले से ही श्‍ुारू हो जाती है। शास्त्रीय संगीत व सुगम संगीत के साथ जगह-जगह गांव के बंगलाें पर सांस्कृतिक कार्यक्रम हाेने लगते हैं। ललित झा बंगला पर वाराणसी के कलाकारों की ओर से शास्त्रीय संगीत की सुर निरंतर बिखेरी जाती रहती है।

 holi in bangaon ,saharsa 3
holi in bangaon ,saharsa 3

लोग यहाँ के होली के सम्प्र्रदायिक सौहाद्र की मिसाल देते हैं

कहरा की प्रखंड प्रमुख अर्चना प्रकाश बताती हैं कि बनगांव की होली में हिन्दू-मुस्लिम का भेद नहीं रहता है। उस दिन कोई छोटा और बड़ा नजर नहीं आता। गांव के ही राधेश्‍याम झा के अनुसार इस अनूठी होली को खेलने वालों के अलावा देखने वालों की संख्‍या भी हजारों में होती है।

Facebook Comments

Latest articles

खगड़िया जिला स्थापना दिवस : मक्का और दूध का अद्भुत उत्पादन करता है यह ज़िला

बिहार के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित खगड़िया जिला ने अपने 44वें वर्ष में प्रवेश...

राजगीर का शायक्लोपिएन दीवार

राजगीर में स्थित शायक्लोपिएन दीवार ( चक्रवात की दीवार) मूल रूप से चार मीटर...

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण

बिहार के तीसरे चरण के लोकसभा चुनाव में पांच सीटों के समीकरण इस प्रकार...

सिलाई मशीन योजना ऑनलाइन आवेदन 2024: महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त सिलाई मशीन योजना

क्या है सिलाई मशीन योजना ? भारत सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य...

More like this

पटना मेट्रो: सातवें आसमान में उड़ान का इंतजार

पटना मेट्रो का निर्माण: एक सुरक्षित और तेज़ यातायात की ओर राजधानी पटना में मेट्रो...

पटना विश्वविद्यालय का नाम दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊँची चोटी पर पहुँचाया मिताली प्रसाद ने

हौसला इंसान से उनके सपने पूरे कराने का माद्दा रखता है।कुछ ऐसा ही कारनामा...

बिहार की अंजलि ने किया कमाल, बनी विदेश में तैनात होने वाली पहली महिला विंग कमांडर

लड़कियां हमेशा देश का मान बढाती है, एक बार फिर बिहार ...