परिचय
रामवृक्ष बेनीपुरी भारत के एक महान विचारक, चिन्तक, मनन करने वाले क्रान्तिकारी साहित्यकार, पत्रकार, संपादक थे।वे हिन्दी साहित्य के शुक्लोत्तर युग के प्रसिद्ध साहित्यकार थे।

जन्म
इनका जन्म 23 दिसंबर, 1900 को उनके पैतृक गांव मुजफफरपुर जिले (बिहार) के बेनीपुर गांव के एक भूमिहर ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उसी गांव के आधार पर उन्होंने अपना उपनाम ‘बेनीपुरी’ रखा था।

शिक्षा
उनकी प्राथमिक शिक्षा ननिहाल में हुई थी। वहीँ से उन्होंने मैट्रिक पास की ।

एक सफल संपादक
उनकी भाषा-वाणी प्रभावशाली थी। उनका व्यक्तित्त्व आकर्षक एवं शौर्य की आभा से दीप्त था। वे एक सफल संपादक के रूप में भी याद किये जाते हैं। वे राजनीतिक पुरूष न थे, पक्के देशभक्त थे। । ये हिन्दी साहित्य के पत्रकार भी रहे और इन्होंने कई समाचारपत्रों जैसे युवक (1929) भी निकाले।

स्वतंत्रता संग्राम और बेनीपुर की रचनाएँ

स्वतंत्रता महत्तम गाँधी द्वारा चलाये जा रहे असहयोग आंदोलन में शामिल हो गये।इन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में आठ वर्ष जेल में बिताये थे । कई राष्ट्रवादी और स्वतंत्रता संग्राम संबंधी कार्यों में संलग्न रहे।

रामवृक्ष बेनीपुरी की आत्मा में राष्ट्रीय भावना लहू के संग लहू के रूप में बहती थी जिसके कारण आजीवन वह चैन की सांस न ले सके। उनके फुटकर लेखों से और उनके साथियों के संस्मरणों से ज्ञात होता है कि जीवन के प्रारंभ काल से ही क्रान्तिकारी रचनाओं के कारण बार-बार उन्हें कारावास भोगना पड़ता। सन् १९४२ में अगस्त क्रांति आंदोलन के कारण उन्हें हजारीबाग जेल में रहना पड़ा। जेलवास में भी वह शान्त नहीं बैठे सकते थे। वे वहां जेल में भी आग भड़काने वाली रचनायें लिखते। जब भी वे जेल से बाहर आते उनके हाथ में दो-चार ग्रन्थों की पाण्डुलिपियां अवश्य होतीं, जो आज साहित्य की अमूल्य निधि बन गईं। उनकी अधिकतर रचनाएं जेलवास की कृतियां हैं।

सन् 1930 के कारावास काल के अनुभव के आधार पर पतितों के देश में उपन्यास का सृजन हुआ। इसी प्रकार सन् 1946 में अंग्रेज भारत छोड़ने पर विवश हुए तो सभी राजनैतिक एवं देशभक्त नेताओं को रिहा कर दिया गया। उनमें रामवृक्ष बेनीपुरी जी भी थे। कारागार से मुक्ति की पावन पवन के साथ साहित्य की उत्कृट रचना माटी की मूरतें कहानी संग्रह और आम्रपाली उपन्यास की पाण्डुलिपियां उनके उत्कृष्ट विचारों को अपने अन्दर समा चुकी थीं। उनकी अनेक रचनायें जो यश कलगी के समान हैं उनमें जय प्रकाश, नेत्रदान, सीता की मां, ‘विजेता’, ‘मील के पत्थर’, ‘गेहूं और गुलाब’ शामिल है।’शेक्सपीयर के गांव में’ और ‘नींव की ईंट’। इन लेखों में भी रामवृक्ष बेनीपुरी ने अपने देश प्रेम, साहित्य प्रेम, त्याग की महत्ता, साहित्यकारों के प्रति सम्मान भाव दर्शाया है वह अविस्मरणीय है।

उनकी रचना

उनकी रचनाओं का विस्तृत विवरण इस प्रकार है-

नाटक
अम्बपाली -1941-46
सीता की माँ -1948-50
संघमित्रा -1948-50
अमर ज्योति -1951
तथागत
सिंहल विजय
शकुन्तला
रामराज्य
नेत्रदान -1948-50
गाँव के देवता
नया समाज
विजेता -1953.
बैजू मामा, 1994
शमशान में अकेली अन्धी लड़की के हाथ में अगरबत्ती – 2012
सम्पादन एवं आलोचन
विद्यापति की पदावली
बिहारी सतसई की सुबोध टीका
जीवनी
जयप्रकाश नारायण
संस्मरण तथा निबन्ध
पतितों के देश में -1930-33
चिता के फूल -1930-32
लाल तारा -1937-39
कैदी की पत्नी -1940
माटी -1941-45
गेहूँ और गुलाब – 1948–50
जंजीरें और दीवारें
उड़ते चलो, उड़ते चलो
ललित गद्य
वन्दे वाणी विनायक −1953-54.
ग्रन्थावली

दिनकर जी के पसंदीदा रचनाकार में से एक थे बेनीपुरी 

दिनकर जी ने एक बार बेनीपुरी जी के विषय में कहा था, “स्वर्गीय पंडित रामवृक्ष बेनीपुरी केवल साहित्यकार नहीं थे, उनके भीतर केवल वही आग नहीं थी जो कलम से निकल कर साहित्य बन जाती है। वे उस आग के भी धनी थे जो राजनीतिक और सामाजिक आंदोलनों को जन्म देती है, जो परंपराओं को तोड़ती है और मूल्यों पर प्रहार करती है। जो चिंतन को निर्भीक एवं कर्म को तेज बनाती है। बेनीपुरी जी के भीतर बेचैन कवि, बेचैन चिंतक, बेचैन क्रान्तिकारी और निर्भीक योद्धा सभी एक साथ निवास करते थे।”

सम्मान

  • 1999 में भारतीय डाक सेवा द्वारा बेनीपुरी जी के सम्मान में भारत का भाषायी सौहार्द मनाने हेतु भारतीय संघ के हिन्दी को राष्ट्र-भाषा अपनाने की अर्ध-शती वर्ष में डाक-टिकटों का एक सेट जारी किया ।
  • उनके सम्मान में बिहार सरकार द्वारा वार्षिक अखिल भारतीय रामवृक्ष बेनीपुरी पुरस्कार दिया जाता है।
Facebook Comments